Doordarshan24 News

Latest Online Breaking News

संगम नगरी में बिना मास्क के आए हुए श्रद्धालुओं को I.J.A प्रयागराज इकाई द्वारा मास्क वितरण कर कोविड-19 के नियमों का पालन करने का दिया संदेश।

 

इंडियन जर्नलिस्ट एसोसिएशन प्रयागराज इकाई के जिला अध्यक्ष मो. रिजवान के दिशा निर्देश पर जिला महासचिव राधे कृष्ण तिवारी के नेतृत्व में कोरोना काल के समय सरकार की बड़ी चुनौतियों के बीच संगम नगरी प्रयागराज में माघ मेले का आयोजन को देखते हुए मेला क्षेत्र में मास्क का वितरण कर कोविड-19 के नियमों का पालन करने का दिया संदेश।
उत्तर प्रदेश जनपद प्रयागराज के संगम नगरी में मकर संक्रांति स्नान के साथ ही गुरुवार को संगम तीर्थ 57 दिनों तक चलने वाला धर्म-अध्यात्म का समागम माघ मेले के रूप में शुरू हो गया। सरकार द्वारा जारी कोविड-19 गाइडलाइन के अनुसार मेले में आए हुए सभी श्रद्धालुओं को कोविड-19 के नियमों का पालन भी करना है लेकिन इन सबके बावजूद भी सोशल डिस्टेंसिंग ना चाह कर भी बनाई नहीं जा सकती इसीलिए सभी श्रद्धालुओं को मास्क व सैनिटाइजर का उपयोग भी करना है निरंतर समयानुसार।
कोरोना के चलते मेला क्षेत्र स्थित अस्पतालों में व्यापक तैयारियां हैं। करीब पांच हजार जवानों की ड्यूटी लगाई गई है, इनमें आरएएफ व एटीएस कमांडो भी हैं। लगभग 13 थाने और 36 पुलिस चौकियां क्रियाशील हैं।
हजारों श्रद्धालु मकर संक्रांति पर पावन त्रिवेणी में पुण्य की डुबकी लगाई । सभी इंट्री प्वाइंट पर थर्मल स्कैनिंग कोरोना संक्रमण की वजह से विशेष सतर्कता है। मेला क्षेत्र में 20-20 बेड के दो अस्पताल हैं। यहां कोरोना जांच भी होगी। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों की संख्या 10 है। कुल 16 इंट्री प्वाइंट पर थर्मल स्कैनिंग व कोविड रिपोर्ट जांचने के बाद श्रद्धालुओं को प्रवेश मिला।
माघ मेला क्षेत्र इस बार 641.5 बीघा है। इसे दो जोन और पांच सेक्टर में बांटा गया है। पौष पूर्णिमा से माघी पूर्णिमा तक कल्पवास किया जाता है।

इस दौरान संगम नगरी माघ मेला स्थल पर मौजूद रहे इंडियन जर्नलिस्ट एसोसिएशन के जिला महासचिव राधे कृष्ण तिवारी, जिला कार्यालय सचिव अमरीश अग्रवाल, सदस्य: सुबीर दत्ता, अफरोज सिद्दीकी, इरफान अहमद, प्रतीक अग्रवाल वह अन्य साथी गण उपस्थित रहे।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

Please Share This News By Pressing Whatsapp Button 

लाइव कैलेंडर

November 2021
M T W T F S S
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
2930  
error: Content is protected !!