Doordarshan24 News

Latest Online Breaking News

सरधना में इंसानियत हुई शर्मसार वृद्ध को जिंदा जलाने की कोशिश

 

(उत्तर प्रदेश) सरधना। इंसानियत यानी मानवता, फिर चाहे वो किसी भी देश का हो, किसी भी जाति का हो या फिर किसी भी शहर का हो सबका एकमात्र प्रथम उद्देश्य एक अच्छा इंसान बनने का होना चाहिए। हर किसी इंसान के रंग रूप, सूरत, शारीरिक बनावट, रहन-सहन,सोच-विचार और भाषा आदि में समानतायें भी होती हैं और असमानताएं भी होती हैं आज के इस दौर में इंसान मानवता को छोड़कर, इंसान के द्वारा बनाये गए धर्मों के भेद-भाव के रास्ते पर निकल पड़ा है। इसमें कुछ तो हम लोगों की अपनी सोच है।इंसान धर्म की आड़ में अपने अंदर पल रहे वैर, निंदा, नफरत, अविश्वास, उन्माद और जातिवादी भेदभाव के कारण अभिमान को प्राथमिकता देइंसान प्यार करना भूलता जा रहा है, अपने मूल उद्देश्य से भटक गया है और तो और अपने परमपिता परमात्मा को भी भूल गया है। इन सबके चलते मानव के मन में दानवता का वास होता जा रहा है। सरधना में कूड़ा चुगकर वृद्ध राजेश पुत्र रामपुर निवासी म मलियाना मेरठ अपना गुज़ारा करता था इसके बाद वह रात में तहसील में सो जाता था बुधवार को रात में कुछ अज्ञात व्यक्तियों ने तहसील में सोया हुआ वृद्ध को जिंदा जलाने की कोशिश की लेकिन गनीमत रही तहसील के ही कुछ लोग फरिश्ते बनकर वृद्ध की मदद के लिए आ गए जिसमें उन्होंने वृद्ध को जलने से बचाया और उपचार के लिए हॉस्पिटल में भर्ती कराया इसमें लगता है कि अभी भी इंसानियत बाकी है लेकिन कुछ लोगों की वजह से उन्हें भी बदनामी का सामना करना पड़ता है घटना लगभग रात्रि 8:30 बजे की है।

मोहम्मद साबिर की रिपोर्ट।

मोहम्मद साबिर / दूरदर्शन २४ न्यूज प्रधान सम्पादक।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें 

Please Share This News By Pressing Whatsapp Button 

लाइव कैलेंडर

October 2021
M T W T F S S
 123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031
error: Content is protected !!